न्यूज़ एंड ब्लॉग

  • May 26, 2021
  • IGS DIGITAL CENTER

कंपनी रेजिस्ट्रशन के बारे में 5 गलत धारणाये (misconceptions)

एक नया व्यवसाय शुरू करना हमेशा से एक मुश्किल प्रक्रिया रही है। और एक व्यापारी को बहुत सी चीजों के बारे में निर्णय लेने की आवश्यकता होती है। एक सफल व्यवसाय केवल एक अच्छे विचार या एक अनुकूलित प्रक्रिया के बारे में नहीं है, बल्कि व्यवसाय की संरचना, इसकी कानूनी पहचान, भविष्य के विकास के लिए तैयारियों और विभिन्न अन्य गुणन खंड या फैक्टर्स के बारे में जानना चाहिए जो इसकी सफलता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

 

 एक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी हमेशा अपने व्यवसायों को कई तरह के लाभ प्रदान करती है, लेकिन कई गलतफहमियां इन बिज़नेस इकाईयो को घेर लेती हैं। आइए कंपनी पंजीकरण के मिथकों को समझे और उन्हें दूर करे। 

 

ग़लतफहमी 1- पंजीकृत करने के लिए आपके व्यवसाय का एक निश्चित टर्नओवर होना चाहिए।

 

असल सच - कंपनी के मालिक बस अपने नए उद्यम के साथ ही शुरुआत कर सकते हैं। तथ्य यह है कि कंपनी को पंजीकृत करने के लिए आपको किसी न्यूनतम कारोबार की आवश्यकता नहीं है।

 

 

ग़लतफहमी 2- आपको हर साल अपना पंजीकरण नवीनीकृत करना होगा।

 

असल सच - असल बात ये है की कंपनी पंजीकरण एकमुश्त प्रकार का पंजीकरण है, और यह संपूर्ण तरह से किया जाता है। और जब तक कंपनी का समापन नहीं हो जाता, यह हमेशा के लिए कार्यशील रहेगा। कुछ धोखेबाज लोग अतिरिक्त पैसे देना चाह सकते हैं लेकिन उन पर विश्वास न करें क्योंकि यह सच नहीं है। केवल अनिवार्य चीज जैसे आरओसी (कंपनियों के रजिस्ट्रार) और आयकर विभाग के साथ वार्षिक रिटर्न दाखिल करना जरूरी है।

 

 

ग़लतफहमी 3- सेवा कर पंजीकरण अनिवार्य है

 

असल सच -  अगला गलत दावा हे कि सेवा कर पंजीकरण हर कंपनी रेजिस्ट्रशन करने वालो के लिए अनिवार्य है, जो कि बिल्कुल भी सत्य नहीं है। केवल कर योग्य सेवा प्रदान करने वाले व्यक्तियों को ही सेवा कर पंजीकरण के लिए आवेदन करना अनिवार्य है। इस तरह से, छोटे पैमाने वाले व्यवसायों (small scale) को सेवा प्रदाताओं को सेवा कर छूट का लाभ उठाने का विकल्प प्रदान करता है, अतः यह कंपनी पंजीकरण प्राप्त करने वाले छोटे पैमाने के व्यवसायी के लिए फायदेमंद है। तथ्य यह है कि यदि आपकी वित्तीय आय निर्दिष्ट ब्रैकेट से अधिक नहीं है तो सेवा कर कमपनी पंजीकरण में अनिवार्य नहीं है।

ग़लतफहमी 4- कंपनी के निदेशक के पास कंपनी के शेयर होना जरुरी है।

 

असल सच - यह एक और पूरी तरह से झूठा तथ्य है। वास्तव में शेयरधारक वह ही व्यक्ति होते हैं जिन्होंने व्यवसाय में पैसा लगाया।  तथ्य यह है कि निगमों के निदेशकों (Director) को शेयर रखने की आवश्यकता नहीं है।

 

 

ग़लतफहमी 5- कंपनी रेजिस्ट्रशन एक समय लेने वाला एक कठिन काम है। 

 

असल सच - कंपनी निगमन लागत-कुशल कार्य है।  इसके अलावा, हमारी IGS DIGITAL CENTER कंपनी पंजीकरण सेवाओं के साथ, आप निगमन प्रक्रिया को सरल, किफायती और परेशानी मुक्त तरीके से प्राप्त कर सकते हैं।

रीसेंट पोस्ट

  • IGS Digital Center
    Plot No: 3 Krishna Enclave, Patrakar Colony Rd, Mansarovar, Jaipur, Rajasthan, 302020

  • Call Us:1800-891-3350

    Sales Enquiry:0141-3521601

  • Email Us:support@igsdigitalcenter.com